Religion

दोहावली: जहां हरा-भरा रहता है, लोग वहीं खाने आते हैं, जिसकी हालत बिगड़ जाती है, लोग उसे और भी जलाकर सुखी होते हैं

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
  • तुलसीदासजी ने दोहावली में सुखी और सफल जीवन के सूत्र बताए हैं

गोस्वामी तुलसीदासजी का जन्म संवत् 1554 में हुआ था। इनका प्रारंभिक नाम रामबोला था। काशी में शेषसनातनजी के पास रहकर तुलसीदासजी ने वेदों का अध्ययन किया। संवत् 1583 में तुलसीदासजी का विवाह हुआ था। विवाह के कुछ बाद ही उन्होंने घर-परिवार छोड़ दिया और संत बन गए।

तुलसीदास द्वारा रचित दोहावली में जीवन प्रबंधन के सूत्र बताए गए हैं। दोहावली के अनुसार जब पेड़-पौधे हरे रहते हैं तब सभी पशु-पक्षी चरने आते हैं। सूख जाने पर जलाकर तापते हैं। जब पेड़ों पर फल लगते हैं तो सभी इनके सामने हाथ फैलाते हैं। यानी जहां हरा-भरा रहता है, वहां लोग खाने के लिए आते हैं, जहां हालत बिगड़ जाती है, वहां उसे और भी जलाकर खुद सुखी होते हैं। जहां धन ज्यादा रहता है, वहां सभी मांगने आते हैं।

यहां जानिए कुछ और ऐसे ही दोहे…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *